नागौर महिला पुलिस ने विभिन्न स्कूल व कॉलेजों में जाकर छात्राओं को सिखाए आत्मरक्षा के गुर

प्रशासन शिक्षा

  • अब तक 8000 बालिकाओं को किया गया प्रशिक्षित
  • छात्राओं को दी गई विविध कानूनों की जानकारी

नागौर //  नागौर पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी के निर्देश पर एएसपी राजेश मीणा व महिला अपराध अनुसंधान सेल नागौर के एएसपी ताराचंद के निकटतम सुपरविजन में लंबे समय से नागौर की महिला पुलिस कांस्टेबलों की स्कूल-कॉलेज में अध्ययनरत छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जा रहे हैं। जनवरी से लेकर अब तक 8 हजार छात्राओं को आत्मरक्षा के लिए प्रशिक्षित किया गया है। विगत 25 जुलाई से 30 जुलाई के मध्य खजवाना, गोरेडीचाचा डेगाना, जायल तथा मकराना की विभिन्न् स्कूलों व कॉलेजों की छात्राओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इन्होंने किया छात्राओं को प्रशिक्षित

जिला पुलिस नागौर मीडिया प्रकोष्ठ के अनुसार मास्टर ट्रेनर कांस्टेबल सीमा, शोभा, प्रतिभा, अनीता, संगीता, पपीता, कृष्णा व कांस्टेबल बिन्दु ने जिले की विभिन्न स्कूल-कॉलेजों में छात्राओं को सबसे पहले महिला अत्याचार से संबंधित प्रकरणों एवं भारतीय दण्ड संहिता की धाराओं के बारे में बताया। इसके अलावा बालिकाओं को पुलिस कंट्रोल रूम, महिला हेल्प लाइन नंबर, चाइल्ड हेल्प लाइन नंबर, गरिमा हेल्पलाइन नंबर, साइबर क्राइम हेल्पलाइन नंबरों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। मास्टर ट्रेनर ने बालिकाओं की जूडो, कराटे, विभिन्न प्रकार के पंच के बारे में प्रशिक्षण दिया। इससे छात्राएं व महिलाएं अपना बचाव स्वयं कर सकेगी। पुलिस के अनुसार अब तक जिले में 8 हजार बालिकाओं को ये सभी जानकारियां मुहैया कराई जाकर उन्हें प्रशिक्षित किया जा चुका है।