गोवर्धनमठ पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती 17-18 सितंबर को नागौर में

धर्म-कर्म समाज
  • धर्मसभा व संगोष्ठी होगी, तैयारियां तेज, घर घर दिया जा रहा है न्यौता
  • बंशीवाला मंदिर में होगी धर्मसभा, माली समाज भवन में होगी संगोष्ठी

नागौर //  श्री गोवर्धनमठ, पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती 17-18 सितंबर को दो दिवसीय राष्ट्रोक्तर्ष यात्रा के तहत नागौर आएंगे। उनके यात्रा प्रवास को लेकर यहां पिछले कई दिनों से तैयारियों जोरों पर चल रही है। वे यहां बंशीवाला मंदिर में एक धर्मसभा को संबोधित करेंगे और फिर दूसरे दिन हिन्दू राष्ट्र विषयक संगोष्ठी को संबोधित करेंगे। उनके यात्रा प्रवास को लेकर आयोजन समिति घर घर जनसंपर्क कर शंकराचार्य महाराज के दोनों कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए आमजन को आंमत्रित कर रही है।  

इस संबंध में गुरुवार दोपहर यहां बख्तासागर स्थित केशवदास जी की बगीची में आयोजन से जुड़े प्रमुख लोगों की प्रेस वार्ता भी हुई। इस दौरान केशवदास बगीची के महंत जानकीदास महाराज ने बताया कि पुरी पीठाधीश्वर स्वामी निश्चलानंद महाराज हावडा एक्सप्रेस ट्रेन से शनिवार 17 सितंबर को सुबह तड़के 4 बजे नागौर रेलवे स्टेशन उतरेंगे। तदोपरांत उन्हें रैली के रूप में शहर के डीडवाना रोड पर स्थित पंकज जोशी के निवास पर ले जाया जाएगा। वे 17 सितंबर की शाम साढ़े 5 बजे नगरसेठ बंशीवाला मंदिर के प्रांगण में एक विशाल धर्मसभा को संबोधित करेंगे। तदोपरांत रात्रि विश्राम नागौर में जोशी निवास पर करेंगे। फिर 18 सितंबर रविवार को दोपहर साढ़े 12 बजे डीडवाना रोड स्थित माली समाज भवन में हिन्दू राष्ट-संगोष्ठी को संबोधित करेंगे। इसलिए शहर सहित आस पास के लोगों को महाराज श्री के दर्शन का लाभ उठाना चाहिए क्योंकि हिन्दू समाज के सबसे बड़े संत नागौर पधार रहे हैं।  

हम सौभाग्यशाली कि शंकराचार्य जी पधार रहे हैं नागौर

कार्यक्रम संयोजक भोजराज सारस्वत ने बताया कि नागौरवासी सौभाग्यशाली है कि शंकराचार्य जी खुद नागौर की धरती पर पधार रहे हैं। वे 17 सितंबर की तड़के 4 बजे नागौर रेलवे स्टेशन पर उतरेंगे। उन्हें रैली के रूप में डीडवाना रोड स्थित प्रवास स्थल पर ले जाया जाएगा। सारस्वत ने मीडिया कर्मियो को बताया कि देश में कुल 4 ही बड़े हैँ उनमें से एक पूरी पीठाधीश्वर गोवर्धनमठ के शंकराचार्यजी नागौर आ रहे हैं। ये घर बैठे गंगा आने जैसा संयोग है इसलिए क्षेत्रवासियों को अधिकाधिक संख्या में कार्यक्रम में भाग लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि भारत विकास परिषद, विश्व हिन्दू परिषद सहित बड़ी संख्या में छात्र छात्राएं क्षेत्र में घूम घूमकर आमजन से जनसंपर्क कर उन्हें दोनों दिन कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं।

वैदिक गणित पर 30 किताबें लिख चुके हैं शंकराचार्यजी

आयोजन समिति के पंकज जोशी ने प्रेसवार्ता में बताया कि देश की चारों दिशाओं में 4 बड़े मठ है उनमें से गोवर्धनमठ के पूज्यपाद शंकराचार्य निश्चलाचंद महाराज हमारी नागौर धरती पर पधार रहे हैं। शंकराचार्य जी गणित के बड़े विद्वान है। वैदिक गणित पर इन्होंने खूब काम किया है। विश्व के अनेक बड़े विश्वविद्यालयों में इनकी वैदिक गणित पढ़ाई जा रही है। जोशी ने बताया कि शंकराचार्य जी ने वैदिक गणित पर अब तक 30 किताबें लिख दी है ये बहुत पहुंचे हुए संत हैं और गणित व विज्ञान के ममर्ज्ञ विद्वान है।

वेदों के ममर्ज्ञ है 80 सूत्र खोजे

आयोजन समिति के आंनद पुरोहित ने प्रेसवार्ता में बताया कि शंकराचार्यजी सरल व्यक्तित्व के इंसान है। वे न तो कथा बांचते हैं और न जी भजन गाते हैं। वे केवल हिन्दू समाज को संगठित करने का काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि विज्ञान के विद्यवानों ने धर्म को भ्रांति माना और ऐसा ही भ्रम फैलाया मगर स्वामीजी ने वैदिक गणित से 80 सूत्र खोजे और ये साबित किया सनातन धर्म में ही विज्ञान छुपा हुआ है। वे 80 वर्ष की आयु भी भ्रमण कर रहे हैं। ऐसे नामचीन तपस्वी हमारी धरा पर पधार रहे हैं इसलिए उनके दर्शनलाभ से कोई वंचित नहीं रहना चाहिए। ऐसा प्रयास आयोजन समिति कर रही है।

नागौर में शंकराचार्य जी की यात्रा को लेकर प्रेसवार्ता में जानकारी देते संत जानकीदास महाराज, भोजराज सारस्वत, पंकज जोशी व आंनद पुरोहित आदि।
Advertisements