पर्यावरण एवं जीवन को बचाए रखने के लिए ओजोन परत संरक्षण आवश्यक है : पदमश्री भांभू

प्रशासन शिक्षा

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस मनाया

नागौर // अन्तर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस शुक्रवार को राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय गोगेलाव में पद्मश्री हिम्मताराम भांभू की अध्यक्षता एवं उप वन संरक्षक ज्ञानचन्द मकवाना के निर्देशन में मनाया गया। इस अवसर पर विद्यालय परिसर में छायादार पौधे लगाये गये। पद्मश्री भाम्बु ने बताया कि पर्यावरण एवं जीवन को बचाए रखने के लिए ओजोन परत संरक्षण आवश्यक है मानव ने अहंकार के शिखर पर बैठ कर जो नुकसान किया है उसने पूरी पृथ्वी को संकट में डाल दिया है। उन्होने बताया कि बच्चों को अपने जन्मदिन पर पेड़ लगाना चाहिए. इस अवसर पर उपवन संरक्षक ज्ञानचन्द मकवाना ने बताया कि विद्यार्थी जीवन में छोटी-छोटी बातो का ध्यान रखकर पर्यावरण का संरक्षण किया जा सकता है।
राजस्थान राज्य प्रदुषण बोर्ड के तेजाराम गौड़ ने सिंगल युज प्लास्टिक के खतरों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर प्रशिक्षु क्षेत्रीय वन अधिकारी प्रथम प्रेमचन्द कुमावत ने प्लास्टिक के प्रयोग से बचने के लिए बच्चों को प्रेरित किया। स्काउट मास्टर राजेश देवडा ने ओजोन परत के महत्व के बारे में बताया, गिरधारी सिंह सिसोदिया ने अधिक से अधिक वृक्षारोपण पर बल दिया। कार्यक्रम का संचालन नवरत्न भाटी ने किया। इस दौरान ओजोन परत से संबंधित निबन्ध प्रतियोगिता आयोजित की गयी एवं प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वालो को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में वनपाल हेमेन्द्र फिड़ौदा, सहायक वनपाल सम्पत रोज, वनरक्षक घनश्याम,निरमा,अन्जु वनकर्मी मनोहरसिंह, दीपाराम, महेशचंद्र, कानसिंह, निजामुद्दीन, बाबुलाल, दुर्जाराम,श्रवणराम इत्यादि वन कर्मचारी व विद्यालय शिक्षक उपस्थित रहे।

Advertisements